ट्रेंडिंग
राशिद खान ने किया खुलासा, इस भारतीय गेंदबाज के विडियो देख सीखी गेंदबाजी
By Shubham - Jun 5, 2018 10:32 am
Views 1
Share Post

अपनी घूमती हुई गेंदों से पूरी दुनिया के बल्लेबाजो को नचाने वाले राशिद खान ने कई कीर्तिमान अपने नाम कर लिए है. महज 19 साल की उम्र में राशिद ने अपनी लेग स्पिन गेंदबाजी से पूरे विश्व में हल्ला मचा कर रखा है. कोई भी बल्लेबाज राशिद को अच्छे से पढने में अभी तक कामयाब नहीं हो पाया है.

हाल ही में अफगानिस्तान की शान इस युवा गेंदबाज ने वन-डे इतिहास में सबसे जल्दी 100 विकेट सिर्फ 44 मैच खेल कर लेने वाले एकलौटे गेंदबाज बन गये है. जबकि वही बल्लेबाजी के लिए जाने वाले फॉर्मेट टी-20 में राशिद दूसरे सबसे तेज़ 50 विकेट 31 मैच में लेने वाले गेंदबाज का गौरव उन्हें प्राप्त हुआ है. राशिद को इस तरह एक के बाद एक रिकॉर्ड बनाते देख चारो ओर उनके नाम की चर्चा जोरो-शोरो पर है. ऐसे में राशिद ने खुद खुलासा किया है की आखिर क्यों बल्ल्लेबाज उन्हें नहीं पढ़ पाते है.

अंगुलिमाल है राशिद खान 

AFGvsBAN
Rashid Khan ( pic source-google )

राशिद ने वेबसाइट क्रिकबज को दिए इंटरव्यू में कहा की मै अपने आपको उँगलियों वाला स्पिनर मानता हूँ. जी हाँ ज्यादातर लोग लेग स्पिन के लिए कलाई का इस्तेमाल करते है मगर मैं गेंद को अपनी उँगलियों से घुमाते हुए स्किट करता हूँ. जिसके कारण गेंद में गति और उछाल दोनों बढ़ जाती है. इसके कारण गेंद पिच पर पड़ने के बाद काफी तेज़ी से काँटा बदलती है. यही कारण है की बल्लेबाज इतनी जल्दी नहीं समझ पाते है.”

कुंबले के दीवाने है राशिद 

kumble and afridi
kumble and afridi  ( pic source-google )

इसके बाद जब उनसे अगले सवाल एम् पूछा गया की आपको ये कला किसने सिखायी. तो इसका राशिद ने बड़ा दिलचस्प जवाब दिया. राशिद ने कहा की, “जब वो छोटे करीब 2 साल के थे तब पहली बार अफगानिस्तान में क्रिकेट स्पोर्ट्स के तौर पर आया था. उसके बाद पांच या छः साल की उम्र में मैंने गेंदबाजी शुरू की. उस समय कोई भी कोचिंग देने वाला नहीं था. जो भी था खुद से सीखते थे. हाँ इतना जरूर है की मै जब भी फ्री होता था तो पूर्व भारतीय स्पिन गेंदबाज अनिल कुंबले और शहीद अफरीदी की गेंदबाजी देखता था. जिसमे मुझे कुंबले काफी पसंद है. उनको ज्यादा मैंने फ़ॉलो किया है.”

इस तरह राशिद खान ने अपनी गेंदबाजी से जुड़े काफी रोचक तथ्यों का क्रिकबज के साथ खुलासा किया है. जिसके आधार पर राशिद की मेहनत और उनका क्रिकेट के प्रति जुनून देखने लायक है. आतंकवाद की चपेट में घिरे अफगानिस्तान जैसे देश से निकल कर विश्वपटल पर अपने नाम की अमिट छाप छोड़ना काबिले तारीफ है. आज राशिद के सिर्फ अफगान ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में लोग उनके दीवाने है. ऐसे में कैरियर के शुरुआत में ही इतना नाम कमाने वाला ये पठान खिलाड़ी ना जाने कितने और मुकाम हासिल कर क्रिकेट में एक नया इतिहास रच डालेगा.