फीचर्स
महेंद्र सिंह धोनी के करियर की ऐसी धमाकेदार पारियां जिन्हें शायद ही कभी फैंस भुला पाएं
By CricShots - Mar 26, 2018 2:18 pm
Views 1
Share Post

दुनिया के सबसे कामयाब विकेटकीपर बल्लेबाजों में शुमार मेहन्द्र सिंह धोनी ने कप्तानी में टीम इंडिया आईसीसी के तीनों इवेंट्स जीतने वाली टीम बनी। टी-20 वर्ल्ड कप से लेकर वनडे वर्ल्ड कप और 2013 में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी पर टीम इंडिया ने कब्जा जमाया। धोनी बेहतरीन कप्तान थे उतने ही शानदार विकेटकीपर और बल्लेबाज भी हैं। आइए नजर डालते हैं धोनी के क्रिकेट करियर के यादगार लम्हों पर।

2011 वनडे वर्ल्ड कप

टीम इंडिया को 28 साल बाद वर्ल्ड चैंपियन बनाना जाहिर तौर धोनी के क्रिकेट करियर का सबसे यादगार पल था। श्रीलंका ने फाइनल मुकाबले में भारत के सामने जीत के लिए 275 रन का लक्ष्य रखा था। सचिन -सहवाग के जल्दी आउट हो जाने के बाद गौतम गंभीर ने मोर्चा संभाला और 97 रन की अहम पारी खेली। जबकि धोनी ने 79 गेंदों पर नाबाद 91 रन बनाकर टीम इंडिया को खिताबी जीत दिलाई। खास बाते ये है कि धोनी ने आखिरी गेंद पर छक्का जमाकर ये जीत दिलाई थी।

पाकिस्तान के खिलाफ 148 रन की पारी

पाकिस्तान के खिलाफ धोनी की 123 गेंदों में 148 रन ताबड़तोड़ पारी आज भी क्रिकेट फैंस में जिंदा है। अपनी इस पारी के दौरान धोनी ने 15 चौके और 4 छक्के भी लगाए थे। धोनी की इस पारी की खास बात ये है कि तब धोनी अतंर्राष्ट्रीय क्रिकेट में नए थे और पहले चार मैचों में फ्लॉप होने के बाद पाकिस्तान के खिलाफ इस तूफानी के बाद हर कोई उनका कायल हो गया था।

श्रीलंका के खिलाफ 183 रन की पारी

श्रीलंका के खिलाफ धोनी की 183 रन की धुआंधार भी उनके क्रिकेट करियर की यादगार पारियों में शुमार है। धोनी ने 145 गेंदों में 15 चौकों और 10 आतिशी छक्कों की मदद से 183 रन बनाए। जिसकी बदौलत भारत ने इस मैच में 6 विकेट से जीत हासिल की।

श्रीलंका के खिलाफ ट्राई सीरीज के फाइनल में नाबाद 45 रन

ट्राई सीरीज के फाइनल मुकाबले में श्रीलंका ने भारत को जीत के लिए 202 रनों का लक्ष्य दिया था। जवाब में लगातार विकेट गंवाकर टीम इंडिया मुश्किल में नजर आ रही थी। धोनी एक छोर पर डटे हुए थे। आखिरी ओवर में टीम इंडिया को 15 रन की जरूरत थी और उसके हाथ में सिर्फ 1 विकेट था। धोनी स्ट्राइक पर थे। पहली गेंद पर कोई रन नहीं बना। इसके बाद उन्होंने अगली गेंद पर धोनी ने छक्का जड़ दिया, इसके बाद तीसरी और चौथी गेंद पर धोनी ने चौका और छक्का जड़ते हुए टीम इंडिया की जीत पर मोहर लगा दी।

2006 में पाकिस्तान के खिलाफ नाबाद 76 रन

लाहौर वनडे में पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत को जीत के लिए 289 रन का लक्ष्य दिया। जवाब में टीम इंडिया की ओर से सचिन, युवराज और धोनी ने तूफानी पारियां खेली। धोनी ने महज 46 गेंदों में 72 रन बनाकर टीम इंडिया की जीत में अहम भूमिका निभाई।