इतिहास के पन्नों से
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने किया खुलासा, 25 साल के कैरियर में नहीं देखा ऐसा गेंदबाज
By Shubham - Jun 2, 2018 12:44 pm
Views 4
Share Post

भारतीय क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के पास सभी गेंदबाजों का जवाबा होता था. तेंदुलकर अपने शुरूआती दौर में थोडा पाकिस्तान के गेंदबाजों से जरूर डर गये थे. हालांकि तब उनकी उम्र महज 17 साल ही थी. लेकिन जैसे-जैसे सचिन नाम का ये छोटा बच्चा मास्टर बनता गया वैसे-वैसे गेंदबाज सचिन के मास्टर स्ट्रोक से कांपने लगे. इतना ही नहीं ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज लेग स्पिनर शेन वार्ने को तो सचिन रात के सपने तक में आने लगे थे. मगर इन्ही बीच साउथ अफ्रीका का एक गेंदबाज ऐसा था जो सचिन के सपने में आता था. सचिन उससे आज भी खौफ खाते है. मगर दुर्भाग्यवश वो गेंदबाज अब हमारे बीच नहीं है.

sachin
sachin

सचिन ने ‘द गार्डियन’ को दिए इंटरव्यू में कहा था, “अगर मै ईमानदारी से कहूं तो हैंसी ने मुझे किसी अन्य गेंदबाज़ से ज्यादा परेशान किया. जब भी हम दक्षिण अफ्रीका से खेलते थे तो हैंसी मुझे हमेशा आउट करने में एलेन डोनल्ड या शॉन पोलक से आगे रहते थे. ऐसा नहीं था कि मैं उनकी गेंदों को समझ नहीं पाता था, लेकिन पता नहीं क्या था कि गेंद सीधे फील्डर के हाथों में जाती थी.”

कौन है ये हैंसी क्रोनिया 

Hainsi Kroniya
Hainsi Kroniya

आपको बता दे की ये हैंसी जिसका जिक्र सचिन कर रहे है. इनका पूरा नाम हैंसी क्रोनिया है. जो की साउथ अफ्रीका के बहुत ही शानदार हरफनमौला खिलाड़ी होने के साथ-साथ चतुर कप्तान भी थे. हैंसी ने अपनी कप्तानी में साउथ अफ्रीका को कई मैच जीतवाये है. हैंसी एक ऐसा क्रिकेट खिलाड़ी था जिसने अपनी मौत को भविष्यवाणी भी कर दी थी.

सच साबित हुई थी मौत की भविष्यवाणी 

Hainsi Kroniya
Hainsi Kroniya

हैंसी ने अपनी मौत के संबंध में कहा था, “हम लोग क्रिकेट खेलने के लिए लगातार सफर करते हैं, कभी बस से तो कभी विमान से, और अब मुझे लगता है कि मेरी मौत एक प्लेन क्रैश में होगी और मैं स्वर्ग में जाऊंगा.”

हालांकि हैंसी ने ये बात अपने क्रिकेट खेलने के दौरान ही काफी पहले कह दी थी, जिसके बाद 1996 के भारत दौरे पर इस खिलाड़ी के जीवन में फिक्सिंग नाम का कलंक लग गया. इस कलंक के कारण  हैंसी पर आजीवन प्रतिबन्ध लग गया था. हैंसी ने अपनी फिक्सिंग की बात को कबुलते हुए कहा था, “किसी ‘शैतानी ताकत’ ने उनसे ये सब करवाया है.”

इस वाक्या के बाद हैंसी क्रिकेट से दूर हो गये. जिसके बाद साल 2002 में हैंसी की मौत की भविष्यवाणी जो एक दशक पहले की थी वो सच साबित हुई और 1 जून 2002 को उनकी एक विमान हादसे में मौत हो गई.

क्रोनिये एक बेहतरीन खिलाड़ी थे. उनके माथे पर अगर फिक्सिंग का कलंक ना लगा होता ती निश्चित तौर पर उनका भी काफी नाम होता. हालांकि नियति को कुछ और ही मंजूर था जिसके चलते साउथ अफ्रीका ने एक शानदार खिलाड़ी खो दिया था.

सचिन ने बताया डरबन का किस्सा 

sachin tendulkar
sachin tendulkar

सचिन ने हैंसी की गेंदबाजी की तारीफ करते हुए साउथ अफ्रीका के डरबन का एक मैच याद किया. सचिन ने उस मैच को याद करते हुए कहा  कि उस मैच में मैंने डोनल्ड और पोलक के ख़िलाफ़ शानदार शॉट खेले थे, तभी गेंदबाज़ी परिवर्तन के बाद हैंसी आए और मैं उनकी पहली ही गेंद को फ्लिक करते हुए लेग स्लिप में कैच थमा बैठा.

इस तरह सचिन से जब भी ये सवाल पूछा जाता है की आपके 25 साल के क्रिकेट इतिहास में सबसे ज्यादा किस गेंदबाज ने परेशान किया. तो सचिन बिना कुछ सोचे समझे तपाक से हैंसी क्रोनिया का नाम ले लेते है. सचिन ने कई मर्तबा विभिन्न मंचों पर ये बात मानी है. सचिन ने कहा कि क्रोनिए ने उन्हें इतना ज्यादा परेशान किया कि वह समझ नहीं पाते थे कि उनके ख़िलाफ़ क्या किया जाए.